गीतिका

हमारा हिंदुस्तान!!

आधार-छंद: रास 16/6
समांत: आना<>पदांत: बन्द करो।
गीतिका —-
सदा अँधेरे तीर चलाना,बंद करो ।
रास न आये रंग जमाना,बंद करो । 1

अधिकारों की बातें करना,ठीक नहीं,
किस्सा अपना वही पुराना,बंद करो।

अंग भंग कर पुण्य धरा को,बाँट दिया ।
घायल माँ को और सताना, बंद करो ।

उर के दाहक चीर हरण कर,बैठ गये,
बातों से अब मन बहलाना, बंद करो।

हित चिंतन में बने विरोधी,आपस में
शब्दों के सब तीर चलाना,बंद करो।

दया प्रेम सद्भाव बसाओ,जन-जन में,
षडयंत्रों का पाठ पढ़ाना, बंद करो ।
डॉ. प्रेमलता त्रिपाठी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Powered By Indic IME