• गीतिका

    राहें बनाती है।

    मापनी – 1222 1222 1222 1222 समान्त – आती पदांत – है गीतिका नयन से दूर हो जो तुम,उदासी यह न जाती है । सुखद यादें जहाँ हर पल,हमें यों ही सताती है । तड़पना यह जरूरी है,सही अहसास का होना, निकट हों फासले मन में,करीबी यह न भाती है । चलो अच्छा हुआ अपने,पराये का पता होना, दुखों में साथ जो अपने,कहानी वह सुहाती है । भटकते भाव मधुरिम जो,उबरते डूब कर ही हम, मुझे तुमसे तुम्हें मुझसे, यही हमको मिलाती है बनाकर राह बढ़ते खुद,सहज पाते स्वयं को हम, जहाँ बंधन लगे रिश्ते, न ये चाहत कहाती है । सबेरा नित किया करती,चहकती प्रीति अभिलाषा, महकती शाख वह…

  • गीतिका

    गूँजती पद चाप

    गीतिका —- गूँजती पद चाप जो उर में समाते तुम रहे । राग की रोली बिखेरे पथ दिखाते तुम रहे । शून्य अधरों पर हया मुस्कान बन कर छा गयी, प्यास जन्मों के विकल मन की बुझाते तुम रहे। कंटकों में राह तुमने ही बनायी दूर तक, फूल बनकर श्वांस में यों पास आते तुम रहे । लौट आओ हर खुशी तुमसे जुड़ी हैआस भी, धूप की पहली किरण बनकर सजाते तुम रहे । हो हृदय नायक इशा विश्वास भी तुमसे सभी , स्वप्न सारे पूर्ण हों राहें बनाते तुम रहे। जल रहा मन द्वेष से हर पल विरोधी सामना, मूल्य जीवन का सतत यों ही सिखाते तुम रहे ।…

  • गीतिका

    “आस की जीत है जिंदगी”

    212,212,212 ————————- प्रीत नवनीत है जिंदगी साज संगीत है जिंदगी प्यार से मान मनुहार से, नेह का गीत है जिंदगी । वेदना, चेतना, साधना, सत्य हो रीत है जिंदगी । योग हो भोग हो मंत्र हो नित्य नवगीत है जिंदगी । प्रेम सुख सार है मानिए, आस की जीत है जिंदगी। डॉ. प्रेमलता त्रिपाठी

  • गीतिका

    “आभार जीवन हो”

    गीतिका —- आधार छन्द – माधुरी 2212 2212 2212 22 पदान्त-जीवन हो, समान्त-आर ◆ माँ शारदे आशीष दें, अविकार जीवन हो। छलछद्म को मौका न दें,अधिकार जीवन हो । आये कहीं जो द्वार पर, भूखा नहीं लौटे, इतनी कृपा मुझ पर करें,उपकार जीवन हो । हो अर्चना अपनी सफल,मन से मिले मन यूँ, मतभेद मन के सब मिटे, त्योहार जीवन हो । अनुकूल हो कर शांत रस,दृग ज्योति भर दे माँ , माधुर्य लेखन कामना, आधार जीवन हो । माया जगत व्यापे नहीं,नैया तरेगी प्रभु, रिपुवंश का संहार कर,आभार जीवन हो । अर्पण लिए पूजा फले, संघर्ष करना हो, सच राह से मुकरें नहीं, शृंगार जीवन हो । याचक रहे…

  • गीतिका

    “माँ की ममता”

    आधार छंद सरसी मात्रा 27-16,11पर यति सामांत – आर , अपदांत गीतिका —– कविता मोहक भाव कलश है,भरते हम उदगार । मुखरित वाणी से छलके जो,करे प्रीति संचार। नख शिख वर्णन से न सजे जो,अंतस रहे अधीर, साहस और रवानी भर दे,कविता वह आधार । एकाकी मुस्कान भरे मन,सृजन सहज का साथ, नृत्य करे तन तरुवर झूमें, रसवंती जस नार । भोली सुखदा महक उठे,कोमल कलिका छंद, घुल मिल जाते कवि रचना में,डूब करें अभिसार । रहते मद में चूर सदा जो, दंभ भरें आकाश करें खोखला अंतस प्रतिफल,अंत हुए लाचार । बाधाओं को चूम प्रकृति भी, देती है मधुमास, सुख दुख के ताने बाने का,सुंदर यह उपहार । माँ…

  • गीतिका

    “नयन झुकते समर्पण में”

    छंद- विजात मापनी- 1222 1222 समांत – ओती अपदांत दृगों में वेदना सोती । छिपे ज्यों सीप में मोती । नयन झुकते समर्पण में, हया हृद गेह में होती । बसी कटुता नयन जिसके, सदा वह शूल ही बोती । भरे मुस्कान जीवन में, कुटिलता क्यों उसे खोती । महकती प्रेम की बगिया हँसे अँखियाँ नहीं रोती । ————–डॉ.प्रेमलता त्रिपाठी

  • गीतिका

    “है मसीहा कौन”

    गीतिका मानते हैं जुर्म,का चारो तरफ है जोर अब । है मसीहा कौन देखे आँसुओं के कोर अब । अस्मिता लुटती जहाँ पर एक बारी जानिए, कर जिरह हर बार छीने हर गली हर छोर अब । कर रहे अपराध मिलकर वे सभी ये प्रति प्रहर, व्यर्थ करतें है अमानी रात काली भोर अब । भीत जनता में अदालत से निराशा जानिए , वादियों प्रति वादियों में हो रही बस शोर अब। फर्ज अपना हम निभाते गर चलें हम देश हित, राह बेमानी छले बिन सत्यता हर पोर अब । प्रेम जग में त्याग अर्पण एक दूजे में सधे, बाँधते रिश्ते न जाने कौन सी हो डोर अब । ——————-डॉ.प्रेमलता…

  • गीतिका

    “विश्व खडा़ निस्पंद”

    गीतिका जली शलाका रात-दिन,मचे जहाँ नित द्वंद। कुटिल निरंकुश आग से,मत खेलें स्वच्छंद ।। विकट सदी की आपदा,हिला रही है चूल, ऐसी आँधी है चली, विश्व खडा़ निस्पंद ।। अंतस जलती आग से,मत बनिए अनजान, सुप्त नहीं ज्वालामुखी,मौत लिए यह खंद ।। दान भोग भव प्रीति से,मिट जायें सब भेद, बुनिए गुनिए आपसी, संयम लगे न फंद ।। प्रेम शक्ति ही सार है,गहिकर रखिए छोर, जीवन गति लय ताल में,बना रहे यह छंद।। —————डॉ.प्रेमलता त्रिपाठी

  • गीतिका

    “निज कर्म किया जाये”

    गीतिका —– आधार छंद- वा-द्विभक्ती (मापनीयुक्त मात्रिक) मापनी- 221 1222, 221 1222 समान्त- आये, अपदान्त ————————————– उपकार इसी तन का हो मान अगर पाये । जीवंत सदा रहकर निज कर्म किया जाये । अरमान बडे़ मन में हो उच्च शिखर पाना, कर्तव्य करें बढ़कर पथ-ज्ञान सुधा साये । है ज्ञान बडा जग में सौभाग्य मिले प्रतिपल, संदेश सरस जिसका सम्मान न झुठलाये । संकल्प करें पूरा मत व्यर्थ समय करना, परमार्थ रहे जीवित मतभेद न अपनाये । हो प्रेम समय से यदि अभिसार करें उसका, लाचार हुआ तन-मन शृंगार नहीं भाये । ————— डॉ.प्रेमलता त्रिपाठी

  • गीतिका

    !! मिलन का पर्व होली है!!

    #होली मिलन का पर्व होली है,न भूलो प्यार करने दो । जियेंगें हर खुशी के पल तनिक अभिसार करने दो। मिली जो राह जीने की बढाकर हम कदम जीना, छिपा जो दर्द अपनों में मुझे उपचार करने दो । मिटे पीडा़ जमाने की वफा के नाम पर धोखा , हृदय संवेदना के पल न छल व्यापार करने दो । चुनिंदा जो उसे पाना न राहें हों गलत अपनी, न छोडे़ फैसला मन पर नहीं लाचार करने दो । सही वे दर्द के रिश्ते जिसे मन मीत माने हम, बिवाई पाँव की सहकर उन्हें मनुहार करने दो । चली नौका लहरती ज्यों थपेडो़ं को सहा करती, विकल मन को मिले साहिल…

  • गीतिका

    आधार चिंतन

    आधार छन्द – हरिगीतिका (मापनीयुक्त मात्रिक) मापनी- 2212 2212 2212 2212 समांत – आते पदांत – हम चलें गीतिका — वसुधा सजे शुभ कर्म से पथ को सजाते हम चलें । सुंदर हमारी हर विधा नित गुनगुनाते हम चलें । कविता चुनेगी पथ वही आधार चिंतन हो जहाँ, शुचि भक्ति गणपति साधना नवधा बनाते हम चलें । मायूस होकर दर्द सह हासिल न होगा कुछ कभी, संग्राम करते पथ सदा बाधा मिटाते हम चलें । फागुन वही मौसम सखे खुशियाँ लुटाकर देखिए, है रंग जीवन के बहुत तन मन डुबाते हम चलें । हर भावना को लेखनी देती सदा सम्मान जब, राहें बुलातीं प्रेम प्रतिपल पग बढा़ते हम चलें ।…

  • गीतिका

    !!हो प्रीत रंग पै भारी!!

    आधार छंद – ताटंक / लावणी१६+१४ ************************************ गीतिका :- ———- रास रंग में डूबा फागुन,ज्यों राग उठे दरबारी । पीत पात पथ चहुँदिक् बगरे,अति मुदित लगे मनुहारी । हाट बाट गलियारे सजिकै,अबीर गुलाल रंगीला, होड़ मची परिधानन क्रय की,अँगिया,कंचुकि औ सारी । अब की माँगू प्रीतम प्यारे,मैं साथ तुम्हारे खुशियाँ चढै न दूजो रंग साँवरो, हो प्रीत रंग पै भारी । लाल हरे मिल पीत बखानै,पिय ऐसी रंगत भरना भीगे नैनन प्राण सँवरिया,ये मन भाये पिचकारी । कटुता पटुता द्वेष चाकरी,हत करे हृदय छल माया, आपस के मतभेद मिटा दे,हो प्रेम गीत अविकारी । ————-डॉ.प्रेमलता त्रिपाठी

Powered By Indic IME