• गीतिका

    राहें बनाती है।

    मापनी – 1222 1222 1222 1222 समान्त – आती पदांत – है गीतिका नयन से दूर हो जो तुम,उदासी यह न जाती है । सुखद यादें जहाँ हर पल,हमें यों ही सताती है । तड़पना यह जरूरी है,सही अहसास का होना, निकट हों फासले मन में,करीबी यह न भाती है । चलो अच्छा हुआ अपने,पराये का पता होना, दुखों में साथ जो अपने,कहानी वह सुहाती है । भटकते भाव मधुरिम जो,उबरते डूब कर ही हम, मुझे तुमसे तुम्हें मुझसे, यही हमको मिलाती है बनाकर राह बढ़ते खुद,सहज पाते स्वयं को हम, जहाँ बंधन लगे रिश्ते, न ये चाहत कहाती है । सबेरा नित किया करती,चहकती प्रीति अभिलाषा, महकती शाख वह…

  • गीतिका

    गूँजती पद चाप

    गीतिका —- गूँजती पद चाप जो उर में समाते तुम रहे । राग की रोली बिखेरे पथ दिखाते तुम रहे । शून्य अधरों पर हया मुस्कान बन कर छा गयी, प्यास जन्मों के विकल मन की बुझाते तुम रहे। कंटकों में राह तुमने ही बनायी दूर तक, फूल बनकर श्वांस में यों पास आते तुम रहे । लौट आओ हर खुशी तुमसे जुड़ी हैआस भी, धूप की पहली किरण बनकर सजाते तुम रहे । हो हृदय नायक इशा विश्वास भी तुमसे सभी , स्वप्न सारे पूर्ण हों राहें बनाते तुम रहे। जल रहा मन द्वेष से हर पल विरोधी सामना, मूल्य जीवन का सतत यों ही सिखाते तुम रहे ।…

  • #गीत

    “मुस्करा प्रभा उठी”

    #गीत दिव्य शक्तियाँ जहाँ खुशी स्वरूप धारतीं । मुस्करा प्रभा उठी कली-कली खिला रही । लालिमा विहान की दिगंत में मिला रही । पंक्तियाँ विहंग की मगन-गगन विहारतीं । भावना नहीं अलस प्रभात को निखारतीं । दिव्य शक्तियाँ जहाँ खुशी स्वरूप धारतीं । हिंद है अखंड आन-मान को सँवारिए । हार -जीत राग-द्वेष पुण्य से न हारिए । कष्ट शीत द्वंद्व या बयार से उबारतीं । रश्मियाँ सदैव भेदभाव को नकारतीं । दिव्य शक्तियाँ जहाँ खुशी स्वरूप धारतीं । प्राणवान हो सदा सहर्ष कर्म आप से । कष्ट व्याधि हो नहीं समाज धर्म आप से । वृद्ध बाल वृंद से युवान को सँवारतीं । प्रेम सत्य मार्ग हो कुव्याधि नित्य…

  • #गीत

    “मुस्करा प्रभा उठी”

    #गीत दिव्य शक्तियाँ जहाँ खुशी स्वरूप धारतीं । मुस्करा प्रभा उठी कली-कली खिला रही । लालिमा विहान की दिगंत में मिला रही । पंक्तियाँ विहंग की मगन-गगन विहारतीं । भावना नहीं अलस प्रभात को निखारतीं । दिव्य शक्तियाँ जहाँ खुशी स्वरूप धारतीं । हिंद है अखंड आन-मान को सँवारिए । हार -जीत राग-द्वेष पुण्य से न हारिए । कष्ट शीत द्वंद्व या बयार से उबारतीं । रश्मियाँ सदैव भेदभाव को नकारतीं । दिव्य शक्तियाँ जहाँ खुशी स्वरूप धारतीं । प्राणवान हो सदा सहर्ष कर्म आप से । कष्ट व्याधि हो नहीं समाज धर्म आप से । वृद्ध बाल वृंद से युवान को सँवारतीं । प्रेम सत्य मार्ग हो कुव्याधि नित्य…

  • #गीत

    चिंतन हो पर दुश्चिंताएँ —

    #गीत चिंतन हो पर दुश्चिंताएँ — कह दो उनसे पास न आए । कितनी गहरी अर्थ भरी हो, बातें जिन की खास सुहाए । छीना जिसने जग की खुशियाँ निशा घुली अरमानों वाली । दे न सकी जो नेह निमंत्रण, सूनी सेज रही जो खाली । लिखते गये पृष्ठ अतीत के, बैठी उन्मन रास न आए । यादें मीठी बातें उनकी सपने वे जो लगे किनारे । देकर दर्द न जाये रैना, उनको प्रतिपल रही सँवारे ढूँढ रही मंजिल अपनी जो नयी नज्म विश्वास जगाए । निष्ठुर जग की रीति निभाना धड़कन छीने चिंता घाती, साथ चले अनुकूल नहीं ये, जिसको कहते अपनी थाती ‘लता ‘हृदय से भेद मिटा दो-,…

  • #गीत

    कहती ग्वालन राधिका

    #गीत श्याम प्रीत की डोर सँभालो, कहती ग्वालन राधिका । पीर हरो पिय,आकर मेरी, पुष्पित हो उरमालिका । मधुर बाँसुरी सुन मन रीझे,रहूँ तुम्हारी साधिका । भर दो सुर लय ताल साँवरे सरस भाव अमृत पावन । बाट जोहती प्रिया तुम्हारी, मधुबन सखा घन सावन । भटक रही तनु श्यामल गोरी, धेनु सकल विकल कानन । ढूँढ रही हैं वन-वन तुमको, श्यामा कृष्णा सारिका । मधुर बाँसुरी सुन मन रीझे, रहूँ तुम्हारी साधिका । कल-कल बहती यमुना गह्वर, तट तारिणी हरि माया । लहर लहर पर छाप तुम्हारी, कदंब हरित की छाया । द्वेष भूल हे ! नटवर नागर- नाग कालि को भरमाया । गगनांचल से पुष्प झरे ज्यों, चमक…

  • #गीत

    रश्मि रथी प्रतिपाल

    गीत- कर्म विलसता जीवन तपकर,देकर हमें मिसाल । जीवन साधे प्राची दिशि से,रश्मि रथी प्रतिपाल । *लक्ष्य बिना फिर जीना कैसा, मौन रहा आधार । मधु पराग रस सिञ्चित क्यारी, मधुकर पद सञ्चार । शून्य गगन औ धरा बीच हम,सभी घिरे भ्रमजाल । जीवन साधे प्राची दिशि से,रश्मि रथी प्रतिपाल । *पालन करता स्वयं विधाता, कर्म हमारे हाथ । जीवन माला हरिनाम सखे, कृपा ईश जग साथ । विपुल संपदा मानव तन-मन,हम हैं माला माल । जीवन साधे प्राची दिशि से,रश्मि रथी प्रतिपाल । *नेक साधना हाथों में फिर, भाग्य कहाँ अनजान, विविध कर्म माया नगरी में, सच की कर पहचान, धैर्य साध बढ़ते जाना मत,भाग्य भरोसे टाल । जीवन…

  • #गीत

    “चीर झरे तन पर सदरी”

    आधार छंद- लावणी #गीत स्नेह सिक्त भावों से भीगे,तन-मन अंतर देखें हैं । माँ की कृपा सिंधु से उभरे,मुक्ता अक्षर देखें हैं । *वाणी को जो तीर बनाते, धार बहुत इनमें होती । खिले वाटिका फूल जहाँ पर, आखर-आखर हों मोती । छुपे हुए सर्पो के दल-बल,दीन-धर्म को जो खोकर, घायल करते कृत्य कथन से,डसते विषधर देखेहैं। *कंपित रग-रग शीत लहर से, ठिठुरे हारे जन पथ पर । बजे दंत हैं दुंदुभि जैसे, रवि वर आओ तुम रथ पर। पतझर भी मधुमासी भाये,छँट जाये मोह पाश जो, मृत्यु आवरण धुंध कहर से,घिरते अक्सर देखें हैं। *हरित क्रांति से झूमें सरसों, अलसी निखरे खेत जहाँ । चले नहीं अब हवा पश्चिमी,…

  • #गीत

    चीर झरे तन पर सदरी

    आधार छंद- लावणी #गीत स्नेह सिक्त भावों से भीगे,तन-मन अंतर देखें हैं । माँ की कृपा सिंधु से उभरे,मुक्ता अक्षर देखें हैं । *वाणी को जो तीर बनाते, धार बहुत इनमें होती । खिले वाटिका फूल जहाँ पर, आखर-आखर हों मोती । छुपे हुए सर्पो के दल-बल,दीन-धर्म को जो खोकर, घायल करते कृत्य कथन से,डसते विषधर देखेहैं। *कंपित रग-रग शीत लहर से, ठिठुरे हारे जन पथ पर । बजे दंत हैं दुंदुभि जैसे, रवि वर आओ तुम रथ पर। पतझर भी मधुमासी भाये,छँट जाये मोह पाश जो, मृत्यु आवरण धुंध कहर से,घिरते अक्सर देखें हैं। *हरित क्रांति से झूमें सरसों, अलसी निखरे खेत जहाँ । चले नहीं अब हवा पश्चिमी,…

  • #गीत

    सिलसिला रखना

    सिलसिला रखना मुखर तुमसे रहूँ मैं मत गिला रखना। *अधर मुस्कान के यूँ सिलसिला रखना।* किया था दूर कब रक्खा सदा मन में। भरी यादें तुम्हारा प्यार जीवन में। रहे यूँ पास मेरी धड़कनों में तुम, तुम्हारी चाहतों के नीर नैनन मेंं । सदा बरखा बहारें जो कदम चूमें। मिले खुशियाँ हजारों यूँ खिला रखना । *अधर मुस्कान के यूँ सिलसिला रखना।* लगाओ प्रेम का बिरवा महकता है। खुशी आवेश में तन-मन उमड़ता है । वही राहें सुहाने दिन न बिसरेगें, लिए चिठिया पहन खाकी निकलता है। बजाती पाँव पायल दौड़ती चूम लेती जो, हृदय के पास तुम ही हो मिला रखना । *अधर मुस्कान के यूँ सिलसिला रखना ।*…

  • #गीत

    सिलसिला रखना

    सिलसिला रखना मुखर तुमसे रहूँ मैं मत गिला रखना । *अधर मुस्कान के यूँ सिलसिला रखना ।* किया था दूर कब रक्खा सदा मन में। भरी यादें तुम्हारा प्यार जीवन में । रहे यूँ पास मेरी धड़कनों में तुम, तुम्हारी चाहतों के नीर नैनन मेंं सदा बरखा बहारें जो कदम चूमें । मिले खुशियाँ हजारों यूँ खिला रखना । *अधर मुस्कान के यूँ सिलसिला रखना ।* ——- लगाओ प्रेम का बिरवा महकता है। खुशी आवेश में तन-मन उमड़ता है । वही राहें सुहाने दिन न बिसरेगें, लिए चिठिया पहन खाकी निकलता है। बजाती पाँव पायल दौड़ती चूम लेती जो, हृदय के पास तुम ही हो मिला रखना । *अधर मुस्कान…

  • #गीत

    दुश्चिंताएँ

    #गीत चिंतन हो पर दुश्चिंताएँ — कह दो उनसे पास न आए । कितनी गहरी अर्थ भरी हो, बातें जिन की खास सुहाए । छीना जिसने जग की खुशियाँ निशा घुली अरमानों वाली । दे न सकी जो नेह निमंत्रण, सूनी सेज रही जो खाली । लिखते गये पृष्ठ अतीत के, बैठी उन्मन रास न आए । यादें मीठी बातें उनकी सपने वे जो लगे किनारे । देकर दर्द न जाये रैना, उनको प्रतिपल रही सँवारे ढूँढ रही मंजिल अपनी जो नयी नज्म विश्वास जगाए । निष्ठुर जग की रीति निभाना धड़कन छीने चिंता घाती, साथ चले अनुकूल नहीं ये, जिसको कहते अपनी थाती ‘लता ‘हृदय से भेद मिटा दो-,…

Powered By Indic IME