गीतिका

चित्र गीतिका

गीतिका
आधार छंद – सरसी
मात्रा भार 27- 16,11पर यति

लट पट लटपट ललित लोचना,चली किधर सुध भूल ।
झट पट झटपट कलित पंकजा,लगा लिया पग शूल ।

डगर सगर पर कुश कंटक से,क्यों करती मन दीन,
नयन सुभग तन कोमल बाले,अनगिन वैरी फूल ।

गागर कटि तट धरे भामिनी,भरे कनी जल भाल,
घट-घट घटघट छलके यौवन,चूम रहा तन धूल ।

सरसी सरसी ताल भरे तू, बरखा मधुर फुहार,
छल-छल छलछल छलके जैसे,नदिया सागर कूल ।

नभ तल चमके दामिनि तड़पे,चली कहाँ बलखात,
दम-दम दमके सांवरि गोरी,प्रेम न समझे मूल ।
डॉ प्रेमलता त्रिपाठी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Powered By Indic IME