गीतिका

“नयन झुकते समर्पण में”

छंद- विजात
मापनी- 1222 1222
समांत – ओती <> अपदांत

दृगों में वेदना सोती ।
छिपे ज्यों सीप में मोती ।

नयन झुकते समर्पण में,
हया हृद गेह में होती ।

बसी कटुता नयन जिसके,
सदा वह शूल ही बोती ।

भरे मुस्कान जीवन में,
कुटिलता क्यों उसे खोती ।

महकती प्रेम की बगिया
हँसे अँखियाँ नहीं रोती ।
————–डॉ.प्रेमलता त्रिपाठी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Powered By Indic IME