गीतिका

“है मसीहा कौन”

गीतिका
मानते हैं जुर्म,का चारो तरफ है जोर अब ।
है मसीहा कौन देखे आँसुओं के कोर अब ।

अस्मिता लुटती जहाँ पर एक बारी जानिए,
कर जिरह हर बार छीने हर गली हर छोर अब ।

कर रहे अपराध मिलकर वे सभी ये प्रति प्रहर,
व्यर्थ करतें है अमानी रात काली भोर अब ।

भीत जनता में अदालत से निराशा जानिए ,
वादियों प्रति वादियों में हो रही बस शोर अब।

फर्ज अपना हम निभाते गर चलें हम देश हित,
राह बेमानी छले बिन सत्यता हर पोर अब ।

प्रेम जग में त्याग अर्पण एक दूजे में सधे,
बाँधते रिश्ते न जाने कौन सी हो डोर अब ।
——————-डॉ.प्रेमलता त्रिपाठी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Powered By Indic IME