गीतिका

सजा मंच तैयारी है!!

समस्त विधा में एक रचना
———————————-
छंद : मानव ( सम मात्रिक )
विधान शिल्प : 14 मात्रा / चौपाई में दो मात्रा कम
गीतिका ——
सजा मंच तैयारी है ।
देखें किसकी बारी है।

खुद से खेलें घाती जो,
सोच नहीं हितकारी है ।

मंदिर मस्जिद छाने जो,
दुविधा मन में भारी है ।

मृत आत्मा भटक रहे जो,
छिपी नहीं गद्दारी है ।

देख रहा स्वयं नियंता,
लेकर न्याय कटारी है ।

लगा हुआ हित चिंतन में,
संत मना अविकारी है ।
डॉ.प्रेमलता त्रिपाठी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Powered By Indic IME