गीतिका

“निज कर्म किया जाये”

गीतिका —–
आधार छंद- वा-द्विभक्ती (मापनीयुक्त मात्रिक)
मापनी- 221 1222, 221 1222
समान्त- आये, अपदान्त
————————————–
उपकार इसी तन का हो मान अगर पाये ।
जीवंत सदा रहकर निज कर्म किया जाये ।

अरमान बडे़ मन में हो उच्च शिखर पाना,
कर्तव्य करें बढ़कर पथ-ज्ञान सुधा साये ।

है ज्ञान बडा जग में सौभाग्य मिले प्रतिपल,
संदेश सरस जिसका सम्मान न झुठलाये ।

संकल्प करें पूरा मत व्यर्थ समय करना,
परमार्थ रहे जीवित मतभेद न अपनाये ।

हो प्रेम समय से यदि अभिसार करें उसका,
लाचार हुआ तन-मन शृंगार नहीं भाये ।
————— डॉ.प्रेमलता त्रिपाठी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Powered By Indic IME