• गीतिका

    “कल्प रहे कल्पांत नहीं”

    #गीत मधुरस भीनी बगिया अपनी,कल्प रहे कल्पांत नहीं । सुखदा संसृति अपनी प्रतिपल,करती जो दिग्भ्रांत नहीं । *** सरस लगे ये दिगदिगंत देखन वाले नैन अलग । लोभी मधुकर से यदि पूछें, गुनगुन करते बैन अलग । खोकर जीवै वही साधना , इसके कुछ उपरांत नहीं । सुखदा संसृति अपनी प्रतिपल,करती जो दिग्भ्रांत नहीं । *** नित्य रचे जो द्वार रँगोली, स्वागत में चौखट हो । कुम कुम हल्दी अक्षत ले हँसकर खुलता जो पट हो । तुलसी के बिरवा ! चुनमुन से,अँगना चहके शांत नहीं सुखदा संसृति अपनी प्रतिपल,करती जो दिग्भ्रांत नहीं । *** छंद रचे नव-नव विधान से, गीत नेक रचना हमको । छुपे दिव्य मन भाव सरसता,…

  • गीतिका

    “कल्प रहे कल्पांत नहीं”

    #गीत मधुरस भीनी बगिया ये, कल्प रहे कल्पांत नहीं । सुखदा संसृति अपनी प्रतिपल,करती जो दिग्भ्रांत नहीं । *** सरस लगे ये दिगदिगंत देखन वाले नैन अलग । लोभी मधुकर से यदि पूछें, गुनगुन करते बैन अलग । खोकर जीवै वही साधना , इसके कुछ उपरांत नहीं । सुखदा संसृति अपनी प्रतिपल,करती जो दिग्भ्रांत नहीं । *** नित्य रचे जो द्वार रँगोली, स्वागत में चौखट हो । कुम कुम हल्दी अक्षत ले हँसकर खुलता जो पट हो । तुलसी के बिरवा ! चुनमुन से,अँगना चहके शांत नहीं सुखदा संसृति अपनी प्रतिपल,करती जो दिग्भ्रांत नहीं । *** छंद रचे नव-नव विधान से, गीत नेक रचना हमको । छुपे दिव्य मन भाव…

  • गीतिका

    जस नाविक के तीर

    #गीत अंतस बींधे भेद न जाने,जस नाविक के तीर । रीत जगत की मीत अमानी,होवै मना अधीर । डोर बँधी अथ नाव सँभाले, पाल तने मस्तूल । लहर लहर ये विपुला धारा, साथ चले अनुकूल । धारा के विपरीत चलाये, दुविधायें गंभीर । रीत जगत की मीत अमानी,होवै मना अधीर । सगुण चलावै निर्गुण निर्मल, लगी न बुझती आग । रूप धरे ये स्वारथ कल्मष बुद्ध नहीं अनुराग । स्वाद भरे ये रसना न्यारी,जिसमें उठे खमीर । रीत जगत की मीत अमानी,होवै मना अधीर । ज्ञान सदन की खुली किवाड़ें, कहते सकल सुजान । मन की बगिया हरित बनावें, दर्दी हरें गुमान । नीर नयन से ढलके पर हित,हर ले…

  • गीतिका

    “पाती तुम्हरे आवन की”

    #गीत हरियर पाती भेजे सजना,सुगना बाँचे डाली-डाली । पहिरे चुनरी इत-उत डोले,सावन-भादौं की हरियाली । गुडिया खेलत नैहर अँगना लेत बलैया मातु भवनवाँ । सखियन के ढिग बैठ मनाऊँ बाबुल मोहे भेज गवनवाँ । हरी लाल पीली मिल गावैं,भरी कलाई चुडियन वाली । पहिरे चुनरी इत-उत डोले, सावन-भादौं की हरियाली । हरी-भरी अपनी अँगनाई, पिक-कागन से बगिया चहके । बदरा बिजुरी सगर लुभावन, कदली, बबूल, नीमौ महके । बूँदन हर्षित धरा नहायी,बगिया गमके जिनसे आली । पहिरे चुनरी इत-उत डोले, सावन-भादौं की हरियाली । पाती तुम्हरे आवन की प्रीति बढावै हरित डगरिया । श्वेत अश्व पर वल्गा थामें, पगडी़ बाँधे चला सँवरिया । नयन सजाये सपन बटोही,महिमा जाकी है छविशाली…

  • गीतिका

    पावस “गीत”

    #गीत ( छंद-सार) बरस उठी कजरारी बदरी,सुभग सलोनी अँगना। बाट निहारे साँझ सकारे, बैठि झरोखे सजना । सरस मधुर दिन रैन सताये, संग सखा बिन झूले । रास न आवे मगन समीरण , हौले मन को छूले । देख सखी छवि वारी जाये,श्याम पिया के रचना । बरस उठी कजरारी बदरी,सुभग सलोनी अँगना । बिजुरी विरहन तड़प उठी जब, नैना दो चमकाये । लगे साँवरी अंग तरंगित, सुंदर कटि बलखाये । गगन खींचती रेख समाये, पल में जैसे सपना । बरस उठी कजरारी बदरी,सुभग सलोनी अँगना । कठिन लगे यों जलबिन जीवन, नभ-थल तनिक न भाये । गौर वर्ण से कारी होकर, केश घना लहराये । लता प्रेम की श्याम…

  • गीतिका

    “अनचाहे कुछ अनुबंधन”

    #गीत सागर सम्मत रत्न समेटे,मन में भी गहराई है । अनदेखी अपनों से होती,रोती तब तनहाई है। मृगमरीचिका जीव बढा़ए, अर्थ सहित करिए मंथन । जोगन काया भोग रही है, अनचाहे कुछ अनुबंधन । साँस हिया में हलचल करती,चार दिवस पहुनाई है । अनदेखी अपनों से होती,रोती तब तनहाई है । रिश्ते जोडे़ नये पुराने , नहीं लगे पलछिन दिलकश । साथ चले कब चंद कदम ये, उलझन करती है परवश। लगा कहकहे हँसती मद में,कैसी ये तरुणाई। अनदेखी अपनों से होती,रोती तब तनहाई है। दर्द दिलों की बाँट सकेंगे, समय कसौटी पर तुलकर । रंगों की विविधा है जीवन जीते हैं हम जब घुलकर । “लता” प्रेम की खिले…

  • गीतिका

    “नील गगन है मौन हुआ”

    गीतिका — रंग बिखेरे इंद्रधनुष नभ,सरस लगा तन मन को । सप्त रंग ये अभ्र निकष पर,सजा रहा उपवन को । जहाँ भरे मृग-दाव कुलाँचे, छौने बादल बनकर, नील गगन है मौन हुआ खुद,देखे मुग्ध सदन को । विमल प्रीत ये धरा गगन की, मधुरस कलश भरी जो, मिलन यही नव क्षितिज उकेरे,लुभा रही जन-जन को । बुला रही सावन को पगली,बरखा दे खुशहाली, खेत-खेत खलियान सजाये,माँग रही अनधन को । प्रेम शांति का नारा लेकर,प्रतिपल हो सुखदायक, सुखद सबेरा फिर फिर आये,मिटा सकल उलझन को । ********************डॉ. प्रेमलता त्रिपाठी

  • गीतिका

    कजरी

    #गीत (कजरी ) सखी महक उठी ज्यों माटी तलाई में, चलो अगुआई में धान की रोपाई में ना — धान की रोपाई में ना — बहे पुरवा बयार चहुँ सावनी फुहार, भीगे अँचरा हमार तनी छतरी सँभार । कहे कँगन कलाई में — धान की रोपाई में ना — बीज बेरन बनाय, देत पाँतन बिछाय, धानी चूनर सुहाय,मन मन ही लुभाय । लागी गुइयाँ निराई में – धान की रोपाई में ना — कुहुक कोयली बान लगे सरस निदान, देश हित में जवान,पिया सजग किसान । औ परदेसी कमाई में धान की रोपाई में ना — ————————-डॉ.प्रेमलता त्रिपाठी

  • गीतिका

    “आस की जीत है जिंदगी”

    212,212,212 ————————- प्रीत नवनीत है जिंदगी साज संगीत है जिंदगी प्यार से मान मनुहार से, नेह का गीत है जिंदगी । वेदना, चेतना, साधना, सत्य हो रीत है जिंदगी । योग हो भोग हो मंत्र हो नित्य नवगीत है जिंदगी । प्रेम सुख सार है मानिए, आस की जीत है जिंदगी। डॉ. प्रेमलता त्रिपाठी

  • गीतिका

    “आभार जीवन हो”

    गीतिका —- आधार छन्द – माधुरी 2212 2212 2212 22 पदान्त-जीवन हो, समान्त-आर ◆ माँ शारदे आशीष दें, अविकार जीवन हो। छलछद्म को मौका न दें,अधिकार जीवन हो । आये कहीं जो द्वार पर, भूखा नहीं लौटे, इतनी कृपा मुझ पर करें,उपकार जीवन हो । हो अर्चना अपनी सफल,मन से मिले मन यूँ, मतभेद मन के सब मिटे, त्योहार जीवन हो । अनुकूल हो कर शांत रस,दृग ज्योति भर दे माँ , माधुर्य लेखन कामना, आधार जीवन हो । माया जगत व्यापे नहीं,नैया तरेगी प्रभु, रिपुवंश का संहार कर,आभार जीवन हो । अर्पण लिए पूजा फले, संघर्ष करना हो, सच राह से मुकरें नहीं, शृंगार जीवन हो । याचक रहे…

Powered By Indic IME