गीतिका

“माँ की ममता”

आधार छंद सरसी
मात्रा 27-16,11पर यति
सामांत – आर , अपदांत
गीतिका —–
कविता मोहक भाव कलश है,भरते हम उदगार ।
मुखरित वाणी से छलके जो,करे प्रीति संचार।

नख शिख वर्णन से न सजे जो,अंतस रहे अधीर,
साहस और रवानी भर दे,कविता वह आधार ।

एकाकी मुस्कान भरे मन,सृजन सहज का साथ,
नृत्य करे तन तरुवर झूमें, रसवंती जस नार ।

भोली सुखदा महक उठे,कोमल कलिका छंद,
घुल मिल जाते कवि रचना में,डूब करें अभिसार ।

रहते मद में चूर सदा जो, दंभ भरें आकाश
करें खोखला अंतस प्रतिफल,अंत हुए लाचार ।

बाधाओं को चूम प्रकृति भी, देती है मधुमास,
सुख दुख के ताने बाने का,सुंदर यह उपहार ।

माँ की ममता छुअन सादगी,तनिक न कटु आभास,
प्रेम सृजन आँचल की छाया,रग रग भरे दुलार ।
——————-डॉ.प्रेमलता त्रिपाठी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Powered By Indic IME